शुक्रवार, 24 दिसंबर 2021

राह शायरी || Raah Shayari, Status In Hindi

Raah Shayari , Raah Shayari In Hindi , Raah Shayari, Status In Hindi , Raah Par Shayari , Raah Shayari Image , Raah Shayari 2021 , Raah Shayari 2021 , Raste Par Shayari


 Raah Shayari In Hindi

  

राह शायरी


 पहले भटक तो सही राह मिलेंगी जरूर 

घर से निकल के किसी मोड़ पे 

तू अटक तो सही। 


राह भटकते देखा हे मेने कई मुसाफरों को 

खातिर को भी धोखा खाते 

देखा हे मेने। 


चलने लगे हे न जाने हम किस राह पर 

जिस के हो नहीं सकते उसी के 

होने जा रहे हे। 


Raah Shayari In Hindi


हम चले कई बार बेबस होकर 

अंगारो से भरी इस राह पर 

तुम आये नहीं हाथ थामने कभी 

पर चल रहे हे हम होके बेखबर। 

 


  लगा दो कोई इल्जाम रह गया हो तो 

पहले भी हम बुरे थे अब थोड़ा और 

बना दो। 


गलत राह पर सिर्फ एक कदम उठा था 

और मंजिल तमाम उम्र मुझे 

ढूढ़ती रही। 


Raah Shayari Image


Raah Shayari Image


एक तेरी आवाज सुनने की रोज राह 

सुकून से देखते थे 

तूने वो वजह ही छीन ली जिससे में 

अक्शर खुश होती थी। 



फिरसे चलना सिख लिया हमने 

इश्क की राह में 

इश्क ने हमे फिर से अपना बना लिया। 


किसी को अपना बना लेंगे ये सोच 

कर निकले थे राह में 

मगर इस ख्वाइश ने जिंदगी भर का 

मुसाफिर बना दिया। 


Raah Shayari 2021


ये अँधियारा तुजे छलता हे 

राह मत देख उजालो की 

बेफिक्र परवाज भर तू भी जात 

परिंदो की रखता हे। 


गुजर कर आया हु आज उस राह से भी 

जहा कभी तेरे लिए ठहर जाया 

करता था। 


करीब पर शायरी 

कुछ नहीं हे मंजिले 

राह के पथ्थर से बढ़ के 

रास्ते आवाज देते हे सफर जारी रखो। 


Raah Shayari 2021


Best Raah Shayari


वो शक्श गुजरता भी नहीं अब तो 

इस राह से 

अब किसी उम्मीद पे दरवाजे से 

जाकें कोई। 


मिले थे हम राह में राहे नशीब बन गई 

ना तू अपने घर आया न हम 

अपने घर गए। 


कोशिश पर शायरी 

निगाहे तलाश करती रही तुम्हे 

हर राह पर 

काश यादो से निकल कर तुम 

रूबरू हो जाते। 


Raah Status In Hindi With Image


किसी की राह किये जा रहा हु में 

 दिल में 

कितना हसींन गुनाह किये 

जा रहा हु में। 



मोहब्बत की राह मेरी इतनी भी 

मुश्किल नहीं थी 

कुछ ज़माना खिलाफ हुआ कुछ वो 

बेवफा हो गए। 


ये अँधियारा तुजे छलता हे राह 

मत देख उजालो की 

बेफिक्र परवाज भर तू भी 

जात परिंदो की रखता हे। 


Best Raah Shayari 


raste PAr Shayari


कुछ आसान नजर आता नहीं 

दौर इस राह में मुझे 

 एक तेरे इश्क की बात भी अब 

बस की बात नहीं। 


गलत राह ए शौख में सिर्फ 

एक कदम उठा था 

मंजिल तमान उम्र मुझे ढूढ़ती रही। 


दीवार बन के बैठा हु में अपनी राह में 

अगर वो आयेंगा तो आखिर किस 

रास्ते से आयेंगा। 


( ये पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

close button